ऑटोमोबाइल की बिक्री में 185 प्रतिशत की बढ़ोतरी, पुराने रिकॉर्ड से अभी भी पीछे

0
2


नई दिल्ली. देश में कुछ वर्षों की सुस्त बिक्री के बाद 2022 में पैसेंजर वाहनों की कुल बिक्री के आंकड़े में भारी उछाल आया है. सभी प्रमुख वाहन निर्माता कंपनियों द्वारा बेचे गए वाहनों में इस साल 185 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई है. एक रिपोर्ट के मुताबिक देशभर में मई 2022 में 251,052 पेसेंजर वाहन बेचे गए हैं. SIAM के मुताबिक मई 2022 में बेचे गए पेसेंजर वाहनों की कुल संख्या मई 2019 में महामारी से पहले बेचे गए वाहनों से भी अधिक थी. मई 2022 में, 251,052 पेसेंजर वाहन बेचे गए, जबकि 2019 में इसी महीने में 226,975 पेसेंजर कारों की बिक्री हुई थी, हालांकि यह संख्या अभी भी 2018 से कम है.

रिपोर्ट में बताया गया है कि मई 2021 में बेची गई 1,262 यूनिट की तुलना में मई 2022 में 28,542 यूनिट की बिक्री के साथ देश में तिपहिया वाहनों की बिक्री में भारी वृद्धि हुई है. हालांकि मई 2021 में दोपहिया वाहनों की बिक्री 253 फीसदी से अधिक बढ़कर 1,253,187 हो गई थी, जबकि मई 2021 में 354,824 यूनिट बेचे गए थे.

अभी भी कम है बिक्री
हालांकि, तीन पहिया और दोपहिया वाहनों की बिक्री अभी भी मई 2019 के पूर्व-महामारी स्तर को पार करने में विफल रही है. मई 2022 में, 28,542 तिपहिया वाहनों की बिक्री हुई, जबकि 2019 में इसी महीने में 51,650 की बिक्री हुई थी. वहीं 2019 में 1,253,187 टू व्हीलर की बिक्री हुई, जबकि 2019 में यह आंकड़ा 1,725,204 था.कुल मिलाकर भारतीय व्हीकल सेक्टर ने मई 2022 में कुल 1,532,809 यूनिट्स की बिक्री की है. उद्योग ने अभी तक अप्रैल 2019 में बेची गई 2,004,137 इकाइयों के अपने पूर्व-महामारी के उच्च स्तर को पार नहीं किया है. हालांकि, इंडस्ट्री साल दर साल 245 प्रतिशत बढ़कर 444,131 यूनिट्स बेचने में कामयाब हुई है.

यह भी पढ़ें- S1 इलेक्ट्रिक स्कूटर के सभी कस्टमर्स को फैक्ट्री का टूर कराएगी ओला, 50,000 से अधिक है ग्राहकों की संख्या

कम नहीं हुई हैं चुनौतियां
इस संबंध में SIAM के महानिदेशक राजेश मेनन ने कहा है कि मई 2022 के महीने में दोपहिया और तिपहिया वाहनों की बिक्री सुस्त बनी हुई है. यात्री वाहन की बिक्री अभी भी 2018 के स्तर से नीचे है. उन्होंने आगे कहा कि हालिया सरकार के हस्तक्षेप से सप्लाई की चुनौतियों को कम करने में मदद मिलेगी, लेकिन आरबीआई द्वारा रेपो-दरों में दूसरी बढ़ोतरी और थर्ड पार्टी इंश्योरेंस दरों में वृद्धि चुनौती पैदा कर सकती है.

Tags: Automobile, Car, Maruti Suzuki



Source link

पिछला लेखमोमोज खाने से एक शख्स की मौत, एम्स की चेतावनी- गलती से भी निगलने की ना करें कोशिश
अगला लेखपाकिस्तान को ब्लैकलिस्ट करेगी FATF? फैसले से पहले शहबाज शरीफ ने उठाए कई कदम
लेटेस्त भारतीय ब्रेकिंग न्यूज़, अंतर्राष्ट्रीय न्यूज़, भारत से नवीनतम हिंदी समाचार और विदेश से ट्रेंडिंग न्यूज़ केवल और केवल सतर्क न्यूज़ पर पढ़ें। धर्म, क्रिकेट, व्यवसाय, तकनीक, शीर्ष कहानियों, मौसम, मनोरंजन, राजनीति और अधिक तर जानकारी प्राप्त करें।