एक या दो तरह के नहीं पूरे 350 तरह के ऑमलेट, जानिए कहां !– News18 Hindi

0
2


(विवेक कुमार पाण्डे)

अगर आप ‘एगेटेरियन’ (Eggetarian) हैं और दिल्ली में रहते हैं तो एक दुकान का नाम तो आपने सुना ही होगा. चिंता मत करिए अगर नहीं सुना तो हम उसके बारे में आपको आज बताने जा रहे हैं. वैसे तो दिल्ली के हर इलाके में एक अपना खास ऑमलेट बनाने वाला होता है पर जब नार्थ दिल्ली के अशोक नगर में राहुल एग कार्नर की बात आती है तो किस्सा ही कुछ अलग बन जाता है.
350 तरह के अंडे

वैसे तो अंडा एक ही तरह का होता है लेकिन इससे रेसेपी कई तरह की बनती हैं. आप जानकर चौंक जाएंगे कि राहुल एक कार्नर पर 350 तरह के ऑमलेट बनाए जाते हैं. वह भी एक से एक. कोई तंदूरी जालंधरी ऑमलेट (Omelette) खाता है तो कोई फैट-फ्री वाला. लेकिन, यहां खाने वालों की कतारें हमेशा लगी रहती हैं.

इसे भी पढ़ेंः दिल्ली की आधी रात वाली ‘गेड़ी’ और मूलचंद के पराठे, एक बार जरूर लें मजा…

क्या कहते हैं ‘एगेटेरियन’
पूर्णिमा वैसे तो नॉनवेज नहीं खाती हैं लेकिन पिछले कुछ सालों से वो अंडा खा रही हैं. एक पीएसयू में काम करने वाली पूर्णिमा का कहना है कि ऑफिस के चक्कर में उनका नाश्ता रोज गड़बड़ हो रहा था. कोई लगातार चलने वाला विकल्प नहीं मिल रहा था. फिर, किसी ने अंडे की सलाह दी और फिर जाकर उन्हें उनके हिसाब का विकल्प मिला. राहुल एग कार्नर पर वो हर वीकेंड को जाती हैं. उन्हें तंदूरी ऑमलेट काफी पसंद है.

‘एगेटेरियन’ (Eggetarian)

असल में भागदौड़ की इस जिंदगी में हमारे पास खाने का सबसे कम वक्त होता है. ऐसे में शरीर में बहुत सारे पोशक तत्व हम पूरा नहीं कर पाते हैं. इसी समस्या से बचने के लिए बहुत सारे ऐसे लोग जो नॉनवेज तो नहीं खाते पर अंडे का सेवन जरूर करते हैं. और, अगर कोई अंडा खाए और ऑमलेट न खाए यह कम ही होता है. झटपट से बन जाने वाली एक डिश जो पोषक तत्वों से भरपूर होती है.

किस्सा कहानी

अंडा अपने आप में एक गजब का खाना है. उबला, हाफ फ्राई, ऑमलेट, एग करी, पकौड़े और भी बहुत कुछ बनता है इस एक अंडे से. बताया जाता है कि नेपोलियन बोनापार्ट जब फ्रांस के पास पहुंचा तो उसने पहली बार ऑमलेट खाया था. साथ ही यह भी कहा जाता है कि फ्रांस में ही ऑमलेट सबसे पहले बनना शुरू हुआ था. सेना में भी यह काफी पसंदीदा नाश्ता हो गया था. इसके कई पोषक गुण भी होते हैं.





Source link