ईरान में रास्ते जा रही महिला को पुलिसवाले ने पीटा: लात-घूंसे मारे और फिर चले जाने को कहा, EU ने नए प्रतिबंध लगाए

0
0


तेहरान2 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

वीडियो में पुलिस वाले को महिला पर हमला करते हुए देखा जा सकता है।

पिछले साल यानी 2022 सिंतबर में पुलिस हिरासत में हुई महासा अमीनी की मौत के बाद से ईरान में प्रदर्शन जारी हैं। वहां के युवा कई अधिकारों को लेकर सरकार के खिलाफ सड़कों पर उतरे हुए हैं। इसी बीच एक वीडियो सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रहा है जिसमें एक पुलिस वाला बिना किसी वजह एक महिला को लात-घूंसों से मारता हुआ दिखाई दे रहा है।

वीडियो को ईरान की एक महिला पत्रकार मासिह अलिनेजद ने शेयर किया है। इसमें पुलिस वाला गाड़ियों के बीच से दौड़ता हुआ आता है और महिला को बेवजह मारने लगता है।

ईरान में महिला पर हमला करने से पहले पुलिस वाला गाड़ियों के बीच से दौड़ता हुआ आ रहा है।

ईरान में महिला पर हमला करने से पहले पुलिस वाला गाड़ियों के बीच से दौड़ता हुआ आ रहा है।

दूसरी महिलाएं डर कर भाग गईं
वीडियो में देखा जा सकता है कि पुलिस वाले को दौड़ता हुआ देखते ही कुछ महिलाएं भागने लगती हैं, लेकिन उनमें से एक महिला वहीं खड़ी रहकर उसे देखने लगती है। तभी पुलिस वाला पहले उसे लात मारता है। फिर उसे धक्का देकर थप्पड़ भी मार देता है। हमले के बाद महिला हैरान रह जाती है।

इसी दौरान एक दूसरी महिला उसके बचाव में आती है। पुलिस वाला महिला को जाने के लिए कहता है और फिर दूसरे लोगों को वहां आता हुआ देख मुंह ढ़ंक कर भाग जाता है।

तस्वीर में देखा जा सकता है कि महिला ने हिजाब नहीं पहना हुआ था।

तस्वीर में देखा जा सकता है कि महिला ने हिजाब नहीं पहना हुआ था।

महिलाओं ने हिजाब नहीं पहना था
वीडियो में देखा जा सकता है कि जिन महिलाओं पर पुलिस वाले ने अचानक से हमला किया उन्होंने हिजाब नहीं पहना हुआ था। सोशल मीडिया पर प्रदर्शनकारी ने लिखा कि ईरान की महिलाओं को हिजाब नहीं पहनने की सजा दी जा रही है। उसने कहा कि महिला को पीटने वाला ईरान का रिवोल्यूशनरी गार्ड है। इसे आतंकी संगठन घोषित कर दिया जाना चाहिए।

दूसरी महिला के बचाव करने के बाद पुलिसवाला मुंह ढ़ंक कर भाग गया।

दूसरी महिला के बचाव करने के बाद पुलिसवाला मुंह ढ़ंक कर भाग गया।

IRGC आंतकी सगंठन घोषित नहीं होगा
EU में ईरान के रिवोल्यूशनरी गार्ड कॉर्प्स यानी IRGC को आतंकी संगठन घोषित करने पर काफी बहस चल रही है। इसी बीच सोमवार को यूरोपियन फॉरेन पॉलिसी के चीफ ने कहा कि बिना कोर्ट की मंजूरी ईरान के रिवोल्यूशनरी गार्ड्स कॉर्प्स को आतंकी संगठन घोषित नहीं किया जा सकता है। हालांकि, EU ने ईरान पर हिजाब विरोधी प्रदर्शनकारियों को प्रताड़ित करने और उन्हें मौत की सजा देने पर उस पर नई पाबंदियां लगाई हैं।

यूरोप में ईरान के रिवोल्यूशनरी गार्ड्स को आतंकी घोषित करने की मांग करते हुए लोगों को देखा जा सकता है।

यूरोप में ईरान के रिवोल्यूशनरी गार्ड्स को आतंकी घोषित करने की मांग करते हुए लोगों को देखा जा सकता है।

जानें क्या है ईरान का रिवोल्यूशनरी गार्ड कॉर्प्स
ईरान के रिवोल्यूशनरी आर्म्ड ग्रुप को 1979 में ईरानी क्रांति की सफलता के बाद बनाया गया था। इसका मकसद वहां इस्लामी तंत्र की रक्षा करना था। ‘इस्लामिक रिवोल्यूशनरी गार्ड कॉर्प्स’ (IRGC) ईरान के लिए धार्मिक, राजनीतिक और आर्थिक मोर्चे पर लड़ने वाली सेना है। ये घरेलू संकट के साथ विदेशी खतरों के बीच ईरान के हितों की रक्षा करती है।

खबरें और भी हैं…



Source link

पिछला लेखAir India: उड़ान के दौरान शराब परोसने की नीति में संशोधन, बदसलूकी की घटनाओं के बीच एयर इंडिया का अहम कदम
अगला लेखहोंडा के इस ऐलान ने इलेक्ट्रिक स्कूटर कंपनियों की उड़ाई नींद, ग्राहकों की ख्वाहिश पूरी, अब इस दिन का इंतजार  
लेटेस्त भारतीय ब्रेकिंग न्यूज़, अंतर्राष्ट्रीय न्यूज़, भारत से नवीनतम हिंदी समाचार और विदेश से ट्रेंडिंग न्यूज़ केवल और केवल सतर्क न्यूज़ पर पढ़ें। धर्म, क्रिकेट, व्यवसाय, तकनीक, शीर्ष कहानियों, मौसम, मनोरंजन, राजनीति और अधिक तर जानकारी प्राप्त करें।