आज स्कन्द षष्ठी है, इस शुभ मुहूर्त में कार्तिकेयकी पूजा करने से मनोरथ होंगे पूरे

0
2



<p style="text-align: justify;"><strong>Aaj Ka Panchang, Today Thursday Skanda Sashti 15 July 2021 Live Updates: </strong>आज के पंचांग के अनुसार, आज आषाढ़ मास के शुक्ल पक्ष की षष्ठी तिथि दिन गुरूवार और 15 जुलाई 2021 है. आज के पंचांग के मुताबिक़ षष्ठी तिथि का शुभारंभ सुबह 07 बजकर 16 मिनट पर हो गई है &nbsp;और यह अगले दिन 16 जुलाई की शाम को 06 बजकर 06 मिनट पर समाप्त होगी. इस दिन भगवान शिव के बड़े पुत्र कार्तिकेय की विधि पूर्वक पूजा &ndash;अर्चना करने से मनवांछित फल मिलेंगे.</p>
<p style="text-align: justify;">दक्षिण भारत में भगवान कार्तिकेय को मुरुगन के नाम से भी जाना जाता है. स्कंद पुराण में कहा गया है कि स्कन्द षष्ठी के दिन भगवान कार्तिकेय की पूजा करने से संतान की प्राप्ति होती है. इस दिन सुबह स्नानादि करके भगवान कार्तिकेय को साक्षी मानकर व्रत का संकल्प लें. उसके बाद पूजा स्थल पर भगवान कार्तिकेय की प्रतिमा स्थापित कर पूजन करें. चूंकि आज गुरूवार भी है और गुरुवार का दिन भगवान विष्णु का होता है. इस दिन भगवान विष्णु की भी पूजा अर्चना किये जाने का विधान है. धार्मिक मान्यता है कि विष्णु जी की पूजा करने से घर में सुख-समृद्धि आती है और भक्तों के सारे कष्ट दूर हो जाते हैं. इस लिए आज के दिन का महत्व और भी बढ़ जाता है.</p>
<div class="uk-grid-collapse uk-grid" style="text-align: justify;">
<div class="uk-width-3-5 fz20 p-10 newsList_ht uk-first-column"><a href="https://www.abplive.com/lifestyle/religion/ganesh-puja-know-who-is-mata-santoshi-what-is-her-relation-with-lord-ganesha-untold-story-1940270"><strong>Mata Santoshi Puja: क्या है भगवान गणेश और संतोषी माता का रिश्ता? इनकी पूजा से जीवन में मिलती है शांति और समृद्धि</strong></a></div>
<div class="uk-width-2-5 uk-position-relative uk-padding-remove-left">&nbsp;</div>
</div>
<p style="text-align: justify;"><strong>आज</strong> <strong>का</strong> <strong>पंचांग</strong></p>
<ul style="text-align: justify;">
<li><strong>मास</strong><strong>, </strong><strong>पक्ष</strong><strong>, </strong><strong>तिथि</strong> <strong>एवं</strong> <strong>वार</strong><strong> {</strong><strong>दिन</strong><strong>}: </strong>आषाढ़ मास, शुक्ल पक्ष, षष्ठी तिथि, गुरुवार .</li>
<li><strong>शक</strong> <strong>सम्वत</strong><strong>- </strong>1943 प्लव</li>
<li><strong>विक्रम</strong> <strong>सम्वत</strong><strong>- </strong>2078</li>
<li><strong>आज</strong> <strong>का</strong> <strong>राहुकाल</strong><strong>- </strong>14:10</li>
<li>:22 से 15:53:53 तक</li>
</ul>
<div class="uk-grid-collapse uk-grid">
<div class="uk-width-3-5 fz20 p-10 newsList_ht uk-first-column" style="text-align: justify;"><a href="https://www.abplive.com/lifestyle/religion/devshayani-ekadashi-vrat-date-why-is-no-auspicious-work-done-after-this-know-the-rules-and-importance-of-ekadashi-fast-1940238"><strong>Devshayani Ekadashi 2021: देवशयनी एकादशी कब है? इसके बाद क्यों नहीं किया जाता कोई मांगलिक कार्य, जानें व्रत के नियम व महत्त्व</strong></a></div>
<div class="uk-width-2-5 uk-position-relative uk-padding-remove-left" style="text-align: justify;">&nbsp;</div>
</div>



Source link

पिछला लेखपोखरण : सेना को सब्जी सप्लाई करने वाला निकला ISI का जासूस, आगरा में तैनात जवान कर रहा था मदद
अगला लेखक्राइम ब्रांच का अफसर बन बदमाशों ने बकरा व्यापारी को लूटा, लाखों की लूट कर हुए फरार
लेटेस्त भारतीय ब्रेकिंग न्यूज़, अंतर्राष्ट्रीय न्यूज़, भारत से नवीनतम हिंदी समाचार और विदेश से ट्रेंडिंग न्यूज़ केवल और केवल सतर्क न्यूज़ पर पढ़ें। धर्म, क्रिकेट, व्यवसाय, तकनीक, शीर्ष कहानियों, मौसम, मनोरंजन, राजनीति और अधिक तर जानकारी प्राप्त करें।