अशरफ गनी ने अफगानिस्तान पर तालिबान के अधिग्रहण के लिए अमेरिका को ठहराया जिम्मेदार

0
1



डिजिटल डेस्क, काबुल। अफगानिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति अशरफ गनी ने अपनी सरकार गिरने के करीब एक साल बाद अपनी चुप्पी तोड़ते हुए एक साक्षात्कार में अमेरिका, काबुल के राजनेताओं और अन्य को तालिबान द्वारा युद्धग्रस्त देश पर कब्जा करने के लिए जिम्मेदार ठहराया है।

डीपीए समाचार एजेंसी की रिपोर्ट के अनुसार, बुधवार को नव स्थापित मीडिया आउटलेट अफगान ब्रॉडकास्टिंग नेटवर्क (एबीएन) के साथ अपने पहले टेलीविजन साक्षात्कार में, गनी ने विशेष रूप से अफगान शांति के लिए नियुक्त पूर्व अमेरिकी राजदूत जलमय खलीलजाद के साथ-साथ कई प्रमुख अफगान राजनेताओं को इसके लिए दोषी ठहराया।

गनी खलीलजाद पर सबसे अधिक नाराज नजर आए, जिन्होंने दोहा में तालिबान के साथ एक शांति समझौते पर हस्ताक्षर किए, जिसने देश से विदेशी ताकतों की पूर्ण वापसी का मार्ग प्रशस्त किया। उन्होंने खलीलजाद को भ्रष्ट और अक्षम कहा। 15 अगस्त, 2021 को तालिबान के अफगान राजधानी में प्रवेश करने के बाद पूर्व राष्ट्रपति काबुल से भाग गए थे और अब संयुक्त अरब अमीरात में निर्वासन में रह रहे हैं। उनके जाने से तालिबान के लिए राष्ट्रपति भवन पर कब्जा करने का मार्ग प्रशस्त हो गया था।

गनी ने बाद में अफगान नागरिकों से माफी मांगते हुए कहा कि उन्हें रक्तपात से बचने के लिए भागना पड़ा। राजनीतिक समझौते तक पहुंचने से पहले भागने के लिए राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उनकी भारी आलोचना की गई। हालांकि, वह अभी भी खुद को अफगानिस्तान का राष्ट्रपति मानते हैं। अपनी सरकार गिरने से पहले, गनी ने दावा किया था कि वह मृत्यु तक तालिबान के खिलाफ खड़े रहेंगे।अब वे कहते हैं कि जब काबुल का पतन हुआ था, तब उनके पास कोई कार्यकारी शक्ति नहीं थी।गनी ने एबीएन को बताया कि वह छोड़ने वाले अंतिम व्यक्ति थे और उन्होंने डॉ. नजीब के कड़वे अनुभव को दोहराने से बचने के लिए ऐसा किया।

वह अफगानिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति मोहम्मद नजीबुल्लाह का जिक्र कर रहे थे, जिन्हें 1996 में तालिबान ने तब मारा था, जब उन्होंने पहली बार काबुल पर कब्जा किया था। उन्होंने कहा कि देश के पूर्व रक्षा मंत्री उनके सामने से भाग गए और काबुल में अमेरिकी दूतावास ने पहले ही अपने कर्मचारियों और अफगान अभिजात्य बलों को निकालना शुरू कर दिया था। गनी ने एबीएन को बताया कि उनके खुफिया प्रमुख ने कहा था कि उस समय अफगान सेनाएं लड़ने में असमर्थ थीं।

 

आईएएनएस

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ bhaskarhindi.com की टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.



Source link

पिछला लेखकरीना कपूर ने 2 बार किए थे सैफ अली खान के शादी के प्रपोजल को रिजेक्ट, अब जाकर बताई वजह
अगला लेख‘मुझे कभी बुलेटप्रूफ गाड़ी की जरूरत नहीं पड़ी’, तेजस्वी की सुरक्षा बढ़ाने पर सुशील मोदी का तंज
लेटेस्त भारतीय ब्रेकिंग न्यूज़, अंतर्राष्ट्रीय न्यूज़, भारत से नवीनतम हिंदी समाचार और विदेश से ट्रेंडिंग न्यूज़ केवल और केवल सतर्क न्यूज़ पर पढ़ें। धर्म, क्रिकेट, व्यवसाय, तकनीक, शीर्ष कहानियों, मौसम, मनोरंजन, राजनीति और अधिक तर जानकारी प्राप्त करें।