अरहर दाल की कीमतों में तेजी के बीच एक्शन में केंद्र, राज्य सरकारों को लगाई फटकार

0
0


Photo:FILE अरहर दाल की कीमतों में तेजी के बीच एक्शन में केंद्र

Highlights

  • दालों की कीमत तेजी से बढ़ी
  • चावल 30% तक हुआ महंगा
  • धान का रकबा अबतक 13% घटा

अरहर दाल (Tur Dal) की कीमतों में तेजी के बीच केंद्र ने शुक्रवार को सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को अपने पास स्टॉक में रखे अरहर दाल (Pulse) की मात्रा के बारे में जानकारी देने को कहा है। केंद्र दालों की कीमतों पर करीब से नजर रखे हुए है। वर्तमान में इसके पास बफर स्टॉक में 38 लाख टन दालें हैं और इसे घरेलू आपूर्ति को बढ़ावा देने के लिए जारी किया जा रहा है।

शुक्रवार को केंद्र सरकार के उपभोक्ता मामलों के विभाग ने सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को आवश्यक वस्तु अधिनियम, 1955 की धारा 3 (2) (एच) और 3 (2) (i) के तहत तुअर(अरहर) को स्टॉक कर रखने वाले सभी व्यापारी और सरकार को निर्देश जारी किया है।

दालों की कीमत तेजी से बढ़ी

देश में सभी प्रमुख दालों की कीमत में तेजी बढ़ोतरी दर्ज की गई है। पिछले 6 हफ्तों में अरहर दाल और उड़द दाल की कीमतों में 15% से अधिक की वृद्धि हुई है। महाराष्ट्र के लातूर में अच्छी क्वॉलिटी की अरहर की दाल की एक्स-मिल कीमत करीब 97 रुपये रपये से बढ़कर 115 रुपये प्रति किलोग्राम हो गई है। इसके साथ ही उड़द, चना दाल, मूंग के दाल की कीमत में भी तेजी दर्ज की गई है। जानकारों का कहना है कि दाल की कीमत बढ़ने की सबसे बड़ी वजह जलभराव के कारण फसल नुकसान की आशंका है। इसके साथ ही चालू खरीफ सीजन में दाल की रकबे में गिरावट आई है। कृषि मंत्रालय द्वारा जारी बुवाई के लेटेस्ट आंकड़ों के अनुसार, अरहर का रकबा एक साल पहले की तुलना में 4.6% कम था, जबकि उड़द  2% कम है।

चावल 30% तक हुआ महंगा

करीब दो महीने में चावल के दाम तेजी से बढ़े हैं। जून-जुलाई में चावल करीब 30 फीसदी तक महंगी हुई है। बासमती चावल की कीमत 60 रुपये प्रति किलो से बढ़कर 80 रुपये प्रति किलो पहुंच गई है। वहीं टुकड़े वाले बासमती चावल की कीमतों में भी उछाल देखने को मिली है। टुकड़ा बासमती चावल 30 रुपये प्रति किलो की बजाय 40 रुपये प्रति किलो के स्तर पर बिक रहा है। सामान श्रेणी से लेकर अच्छे चावल की कीमत में तेजी से बढ़ोतरी दर्ज की गई है।

धान का रकबा अबतक 13% घटा

बारिश कम होने की वजह से धान की बुवाई बुरी तरह प्रभावित हुई है। ऐसे में चालू खरीफ सत्र में पांच अगस्त तक पश्चिम बंगाल, झारखंड, बिहार और छत्तीसगढ़ जैसे राज्यों में धान बुवाई का रकबा 13 प्रतिशत घट गया है। कृषि मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, धान का रकबा पांच अगस्त को 274.30 लाख हेक्टेयर था, जो एक साल पहले की इसी अवधि में 314.14 लाख हेक्टेयर था। धान के अलावा दलहन के साथ बोया गया रकबा 119.43 लाख हेक्टेयर से मामूली घटकर 116.45 लाख हेक्टेयर रह गया है। हालांकि, मोटे अनाज, तिलहन, कपास, गन्ने, जूट और मेस्टा का रकबा अधिक रहा है।

Latest Business News





Source link

पिछला लेखOnePlus 10T का टॉप एंड मॉडल इस दिन होगा भारत में रिलीज, ये हैं इस स्मार्टफोन के फीचर्स और कीमत – oneplus 10 t launching date reveal in india know feature price
अगला लेखControl Hair Fall: गंजेपन से बचने के लिए कंट्रोल करें हेयर फॉल, घर पर अपनाएं ये घरेलू उपाय
लेटेस्त भारतीय ब्रेकिंग न्यूज़, अंतर्राष्ट्रीय न्यूज़, भारत से नवीनतम हिंदी समाचार और विदेश से ट्रेंडिंग न्यूज़ केवल और केवल सतर्क न्यूज़ पर पढ़ें। धर्म, क्रिकेट, व्यवसाय, तकनीक, शीर्ष कहानियों, मौसम, मनोरंजन, राजनीति और अधिक तर जानकारी प्राप्त करें।