अब तक शुरू नहीं हो सकी है कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव की प्रक्रिया, राहुल गांधी पर असमंजस बरकरार

0
3


कांग्रेस के नए अध्यक्ष की तलाश जारी है.

नई दिल्ली:

कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए पार्टी में अब तक प्रकिया शुरू नहीं हुई है. जबकि 20 अगस्त से ही इसके शुरू होने के बात कही गई थी. ‘कांग्रेस का अगला अध्यक्ष कौन होगा?’, इस पर तस्वीर अब तक साफ नहीं हो पायी है. कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव की प्रक्रिया को लेकर कांग्रेस सूत्र ने कहा कि, ‘CWC ने तय किया था कि कांग्रेस अध्यक्ष के लिए चुनाव की प्रक्रिया 20 अगस्त से 21 सितंबर के बीच होगी. कोई एक तारीख नहीं बतायी गई थी. अगले कुछ दिनों में CWC द्वारा चुनाव की प्रक्रिया का खाका पेश किया जाएगा.’

यह भी पढ़ें

वहीं अध्यक्ष पद के लिए राहुल गांधी के ना मानने संबंधी खबरों के सवाल पर एक कांग्रेस सूत्र ने कहा, ‘पता नहीं ऐसी खबरों का आधार क्या है, कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए चुनाव की प्रक्रिया का इंतजार किया जाना चाहिए.’ सूत्रों ने एनडीटीवी को बताया कि राहुल गांधी एक बार फिर से अध्यक्ष बनने के लिए राजी नहीं हैं. उन्हें मनाने की तमाम कोशिशें भी विफल साबित हुई हैं. 2019 के लोकसभा चुनाव में मिली हार के बाद राहुल गांधी ने पार्टी के अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था. वहीं अब कांग्रेस के सदस्यों की अपील ठुकराते हुए वो अपने फैसले पर अड़े हुए हैं.

वर्तमान अध्यक्ष सोनिया गांधी ने भी स्वास्थ्य कारणों से फिर से अध्यक्ष बनने से इनकार किया है. सूत्रों का कहना है कि इसके बाद 137 साल पुरानी पार्टी के अधिकांश सदस्य इस पद के लिए प्रियंका गांधी वाड्रा की तरफ देख रहे हैं. उनका मानना है कि गांधी परिवार का ही कोई सदस्य पार्टी को बेहतर चला सकता है. वहीं उत्तर प्रदेश की प्रभारी के तौर पर उनका प्रदर्शन भी कई लोगों के दिमाग में है.

सूत्रों की मानें तो पार्टी के अध्यक्ष पद के लिए राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के नाम पर भी चर्चा हो रही है. इसका मतलब है कि कांग्रेस का नया अध्यक्ष गैर-गांधी नेता होने की संभावना है.

आम सहमति के अभाव में शनिवार से शुरू होने वाले कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष के चुनाव के कार्यक्रम पर अनिश्चितता के बादल मंडरा रहे हैं. हालांकि पार्टी ने फिलहाल इस पर कोई आधिकारिक टिप्पणी नहीं की है.

हालांकि, राहुल गांधी ने सरकार के खिलाफ कांग्रेस के अभियान का नेतृत्व करना जारी रखा है. वह सितंबर में एक विशाल रैली को संबोधित करेंगे और कन्याकुमारी से ‘भारत जोड़ो यात्रा’ की शुरुआत करेंगे.

कांग्रेस पार्टी का नेतृत्व संकट सालों से बरकरार है और लगातार चुनावी हार के बाद कई बड़े नेताओं ने पार्टी छोड़ दी है. 

मार्च में, सोनिया गांधी ने पार्टी की विधानसभा चुनाव में हार पर चर्चा करने के लिए एक बैठक में वरिष्ठ नेताओं को अपने भाषण में राहुल गांधी और प्रियंका गांधी वाड्रा के साथ इस्तीफे की पेशकश की थी. हालांकि, उन्हें चुनाव तक बने रहने के लिए राजी कर लिया गया था. पिछली बार 1998 में सीताराम केसरी कांग्रेस के गैर-गांधी नेता अध्यक्ष बने थे.

मई में उदयपुर में एक बड़ी बैठक में कांग्रेस ने पुनरुद्धार के लिए विस्तृत रणनीतियों पर चर्चा की थी. अभी जो कोई भी कांग्रेस अध्यक्ष चुना जाता है, उसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भाजपा के खिलाफ 2024 के चुनावों में संघर्ष के लिए पार्टी का नेतृत्व करने के कठिन काम का सामना करना पड़ेगा. जिनके सामने पार्टी दो चुनाव हार चुकी है.



Source link

पिछला लेखJio-Airtel को लगा धक्का! सिर्फ 321 रुपए में ये कंपनी दे रही पूरे साल के लिए नेट, कॉलिंग – jio airtel shocked bsnl launched new unlimited calls internet plan
अगला लेखधनश्री ने पोस्ट शेयर कर दिया जवाब: घुटने में इंजरी ने तोड़ दी थी हिम्मत, युजवेंद्र चहल के साथ अनबन की अफवाहों से थीं परेशान
लेटेस्त भारतीय ब्रेकिंग न्यूज़, अंतर्राष्ट्रीय न्यूज़, भारत से नवीनतम हिंदी समाचार और विदेश से ट्रेंडिंग न्यूज़ केवल और केवल सतर्क न्यूज़ पर पढ़ें। धर्म, क्रिकेट, व्यवसाय, तकनीक, शीर्ष कहानियों, मौसम, मनोरंजन, राजनीति और अधिक तर जानकारी प्राप्त करें।